गौरतलब है कि DRDO अपनी दो स्तरीय बैलेस्टिक मिसाइल रक्षा (BMD) ढाल को विकसित करने के अंतिम चरण में है. BMD का डिजाइन पृथ्वी के वायुमंडल के अंदर और बाहर (पूर्व) परमाणु मिसाइलों को ट्रैक करने और उन्हें तुरंत नष्ट करने के लिए किया गया है.

प्रतीकात्मक तस्वीरप्रतीकात्मक तस्वीर

सुरक्षा के लिहाज भारत ने गुरुवार को एक बड़ी कामयाबी हासिल की है. गुरुवार को ओडिशा कोस्ट पर भारत ने बैलेस्टिक मिसाइल शील्ड का सफल परीक्षण किया. इस शील्ड की मदद से दुश्मन की किसी भी तरह की मिसाइल को 40 किलोमीटर की रेंज में ही नष्ट कर दिया जाएगा.

एयर डिफेंस के लिहाज से भारत के लिए ये एक बड़ी उपलब्धि है. गौरतलब है कि जिस तरह भारत के पड़ोस में पाकिस्तान और चीन जैसी बड़ी शक्तियां हैं और उनकी टेढ़ी निगाहें लगातार भारत पर बनी रहती हैं. ऐसे में इस तरह का डिफेंस सिस्टम मिलना हमारे देश के लिए एक बड़ी कामयाबी है.

अभी इस शील्ड का परीक्षण किया गया है, 2022 तक ये शील्ड भारत की सीमाओं की रक्षा करने के लिए तैयार होगी. इस पूरे मिशन को मानवीय हस्तक्षेप के साथ मिशन कंप्यूटर के तहत पूरा किया गया है.

इस परीक्षण के दौरान रडार, मॉनिटरिंग सिस्टम, इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम और टेलिमेटरी सिस्टम का इस्तेमाल किया गया.

गौरतलब है कि अभी कुछ दिनों पहले ही रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) ने अमेरिका से 1 अरब डॉलर में ‘नेशनल एडवांस्ड सर्फेस-टू-एयर मिसाइल सिस्टम-2’ (NASAMS-II) को अधिग्रहण करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है.

वॉशिंगटन और मॉस्को की तरह केंद्र की मोदी सरकार देश की राजधानी दिल्ली को अभेद्य सुरक्षा प्रदान करने की तैयारी में है. इसके तहत दुश्मन चाहकर भी राजधानी पर मिसाइल, ड्रोन और विमान से हमला नहीं कर पाएंगे. भारत सरकार अपने प्रयासों से दिल्ली को चारों तरफ से मिसाइलों के रक्षा कवच से ढंकने की तैयारी में है.

http://www.latestnewsupdate.in/wp-content/uploads/2018/08/mi2_1493894412_1533195576_618x347.jpeghttp://www.latestnewsupdate.in/wp-content/uploads/2018/08/mi2_1493894412_1533195576_618x347-150x150.jpegHindi Newsराष्ट्रीयगौरतलब है कि DRDO अपनी दो स्तरीय बैलेस्टिक मिसाइल रक्षा (BMD) ढाल को विकसित करने के अंतिम चरण में है. BMD का डिजाइन पृथ्वी के वायुमंडल के अंदर और बाहर (पूर्व) परमाणु मिसाइलों को ट्रैक करने और उन्हें तुरंत नष्ट करने के लिए किया गया है. प्रतीकात्मक तस्वीर सुरक्षा के लिहाज...Latest Hindi News